30 की उम्र के बाद महिलाओं में होता है इन बीमारियों का खतरा….. जाने

बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं को कई तरह की सेहत संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. 30 की उम्र के बाद अधिकतर महिलाओं को कमजोरी महसूस होने लगती है. साथ ही महिलाएं कई बीमारियों की चपेट में आने लगती हैं. इसलिए बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं को अपनी सेहत पर खास ध्यान देना जरूरी होता है । 

ब्रेस्ट कैंसर- यूं तो ब्रेस्ट कैंसर किसी भी उम्र की महिलाओं को हो सकता है. लेकिन 30 की उम्र के बाद इसका खतरा अधिक होता है. जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है ब्रेस्ट कैंसर का खतरा उम्र के साथ बढ़ता रहता है. अगर आपको स्तन में किसी भी तरह की तकलीफ महसूस हो या कोई बदलाव नजर आए तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें । 

कई स्टडी की रिपोर्ट में बताया गया है कि अधिकतर महिलाओं में 30 की उम्र के बाद प्रेग्नेंट होने की संभावना बेहद कम हो जाती है. दरअसल, 30 की उम्र  के बाद महिलाओं में ओवुलेशन की प्रक्रिया धीमी पड़ जाती है, जिस वजह से महिलाओं को गर्भ धारण करने में मुश्किल होती है. इसके अलावा शरीर में हार्मोन का संतुलन बिगड़ने पर भी महिलाओं को गर्भ धारण करने में मुश्किल होती है. हालांकि, हर महिला में ऐसा नहीं होता है क्योंकि हर महिला का शरीर अलग तरह से काम करता है । 

बालों का झड़ना- बालों के झड़ने की समस्या से अधिकतर महिलाएं परेशान रहती हैं. लेकिन 30 की उम्र के बाद ज्यादातर महिलाओं में झड़ते बालों की समस्या आम देखी जाती है. इसका मुख्य कारण तनाव और बच्चे का जन्म हो सकता है, इसके अलावा 30 की उम्र में झड़ते बालों का दूसरा बड़ा कारण शरीर में न्यूट्रिएंट्स की कमी भी है. शरीर में आयरन और विटामिन-डी की कमी से भी बाल झड़ने लगते हैं. इसके अलावा शरीर में हार्मोन के असंतुलन होने से भी बाल झड़ने लगते हैं । 

वजन बढ़ना- मोटापा कई बीमारियों को न्योता देता है. अचानक से वजन बढ़ने का मुख्य कारण थायरॉयड और कोलेस्ट्रोल हो सकता है. इसलिए 30 की उम्र होते ही थायरॉयड, कोलेस्ट्रोल और डायबिटीज की जांच जरूर करवा लें, इसके अलावा जिन महिलाओं को पोलिस्टिक ओवरी सिंड्रोम  ( PCOS) की समस्या होती है उनका वजन आसानी से कम नहीं होता है. ये एक हार्मोनल समस्या है. इस समस्या से जूझ रही महिलाओं में डायबिटीज और दिल संबंधी समस्या होने का खतरा अधिक होता है । 

हाई ब्लड प्रेशर-  ज्यादा मोटापा और गर्भनिरोधक गोलियां लेने से महिलाओं का ब्लड प्रेशर हाई हो जाता है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, जिन महिलाओं में हाई ब्लड प्रेशर की समस्या रहती है उनको प्रेग्नेंसी के दौरान कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. बता दें, 30 की उम्र के बाद  तनाव और ज्यादा नमक के सेवन से भी ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है. हाई ब्लड प्रेशर से किडनी संबंधी समस्याएं होने की संभावना बेहद ज्यादा होती है । 

नजर कमजोर होना- बढ़ती उम्र के साथ शरीर में न्यूट्रिशन का स्तर कम होने लगता है, जिस वजह से अधिकतर लोगों की नजर कमजोर हो जाती है. हेल्थ एक्सपर्ट के मुताबिक, शरीर में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई और जिंक की कमी होने से लोगों को धुंधला दिखाई देने लगता है. माइग्रेन से भी आंखों की रोशनी पर बुरा असर पड़ता है । 

थकान- बढ़ती उम्र के साथ शरीर में कमजोरी बढ़ने लगती है, जिस वजह से अक्सर मध्य वर्ग की महिलाओं को थकान महसूस होती है. ज्यादा थकान किसी बीमारी का संकेत भी हो सकता है. अक्सर थायरॉयड के मरीजों को जल्दी थकान महसूस होने लगती है. इसका दूसरा बड़ा कारण नींद की कमी और डायबिटीज भी हो सकता है. इसलिए 30 की उम्र के बाद बेहतर होगा कि आप समय-समय पर अपनी जांच कराते रहें । 

Source 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *