तुलसी के बीज के ये अनोखे फायदे, नहीं जानते होंगे आप

तुलसी एक औषधीय पौधा है, जिसका हर हिस्सा कई दवाओं को बनाने के काम आता है। अधिकतर लोग इसके पत्तों के फायदों के बारे में ही जानते हैं, मगर आपको बता दें कि तुलसी के बीज भी कई शारीरिक समस्याओं का निदान कर सकते हैं। इन्हें अधिकतर मिठाई या पेय पदार्थों में इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन आयुर्वेद और चाइनीज औषधीय विज्ञान में तुलसी के बीजों को बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है। इनमें काफी मात्रा में पोषण, प्रोटीन, फाइबर और आयरन होता है। इन्हें सब्जा भी कहा जाता है, जो कि आपको कई स्वास्थ्य लाभ पहुंचाते हैं। आइए जानते हैं कि तुलसी के बीज किन समस्याओं में फायदेमंद साबित होते हैं।

सूजन में कमी
तुलसी के बीज में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो कि शरीर के किसी हिस्से में आई सूजन और एडिमा जैसी बीमारियों का उपचार कर सकते हैं। साथ ही इसका इस्तेमाल डायरिया में भी आपको राहत दिलाता है।



रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना
तुलसी के बीज में मौजूद फ्लेवोनोइड और फेनोलिक तत्व शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। इन बीजों में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो आपकी कोशिकाओं को स्वस्थ रखने और क्षतिग्रस्त होने में मदद करते हैं।

पाचन क्षमता बढ़ाना
ये बीज पेट में जाने के बाद जिलेटनयुक्त परत बनाते हैं, जो कि पाचन क्षमता को मजबूत बनाने में मदद करती है। साथ ही इसमें मौजूद फाइबर तत्व पाचन को बढ़ाता है।

आया नया मौत का गेम Momo Challenge, जानें कैसे लेता है जान

हृदय को स्वस्थ बनाना
तुलसी के बीज शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को संतुलित करते हैं, जिससे यह हृदयघात के प्रमुख कारण उच्च रक्तचाप और स्ट्रेस को कम करते हैं। ये बीज शरीर में लिपिड स्तर को बढ़ाते हैं और हृदय को सुरक्षा प्रदान करते हैं।

खांसी-जुकाम में राहत
इन बीजों में एंटी-स्पैसमोडिक गुण होते हैं, जो खांसी-जुकाम जैसी बीमारियों में राहत पहुंचाते हैं। साथ ही इसकी मदद से बुखार का इलाज भी किया जा सकता है।

वजन कम करना
तुलसी के बीज में कैलोरी की मात्रा कम होती है और यह आपकी भूख भी मिटाता है। इसलिए इन्हें वजन कम करने में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। यह आपके पेट को ज्यादा देर तक भरा रखते हैं और आपकी अस्वस्थ खानपान करने की संभावनाओं को कम करते हैं।

Source : LiveHindustan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *